जंगल में जानवरों की मदद करना

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे हम जंगली जानवरों की मदद कर सकते हैं और उन्हें प्रकृतिक नुकसान से बचा सकते हैं । दीर्घावधि में, एक रास्ता जिससे उन्हें हमसे अंततः मदद (जिसकी उन्हें ज़रुरत है) मिलेगी, है कि हम जंगली जानवरों की दुर्दशा और भेदभाव की पीड़ा के बारे में जागरूकता बढाएं । लेकिन कुछ उपयोगी कार्य फिलहाल हैं । जो उनके लिए किए जा सकते हैं । । कुछ लोग चाहते हैं कि जंगली जानवरों की मदद की जाए पर हमें यह डर है कि हमें इसे ठीक से करने के लिए पूरा ज्ञान है भी ? और कहीं हम उनके भले से ज्यादा नुकसान ना कर दें । सौभाग्य से, हालांकि, ऐसे तरीके हैं जिनसे हम अपने वर्तमान ज्ञान का उपयोग करके जानवरों की मदद कर सकते हैं । पहले से ही ऐसे कई उदाहरण है जिन्हें देखा जा सकता है,जैसे कि कई व्यक्तिगत रूप से कुछ जानवरों की मदद करना, दूसरा जानवरों के बड़े समूहों की मदद करना है, जो वैज्ञानिक रूप से सूचित तरीकों से किया जा सकता है ताकि यह सुनिश्चित हो कि कोई नकारात्मक परिणाम ना हो । अंततः, इस समस्या पर अनुसंधान शिक्षा में स्थापित किया जा सकता है, जो हमें जंगल में रहने वाले जानवरों की मदद करने के सबसे अच्छे तरीके के बारे में बहुत बेहतर जानकारी प्रदान कर सके । दुर्भाग्य से, ज्यादातर लोग अभी भी ऐसे विभिन्न तरीकों से अनजान हैं जिनमें जानवरों की मदद की जा सकती है और वास्तव में, वर्तमान में मदद की भी जा रही है । 1 अब हम ऐसे कुछ उदाहरण देखेंगे ।

 

जानवरों की मदद के लिए हस्तक्षेप के मामले

कई ऐसे मामले दर्ज हुए हैं, जिनमें जानवरों की प्रकृति में मदद की गई है । कभी-कभी, व्यक्तियों के छोटे समूहों (या यहां तक कि सिर्फ एक व्यक्ति) ने उन्हें सहायता प्रदान करके कुछ जानवरों के लिए बहुत फर्क लाया है । अन्य मामलों में, जानवरों को उन संगठनों या सरकारों के प्रयासों की बदौलत मदद की गई है जिन्होंने जानवरों के लिए फायदेमंद नीतियों का पालन किया है, भले ही कई बार उनका उद्देश्य जानवरों की मदद करना नहीं था (उदाहरण के लिए, मानव स्वास्थ्य जोखिमों को कम करने के लिए जंगली जानवरों का टीकाकरण) । सौभाग्य से, जंगल में रहने वाले जानवरों की मदद करने के लिए और हमारे प्रयासों को सूचित करने के लिए, हम इन उदाहरणों से और जुड़े अनुसंधान से सीख सकते हैं ।

इनमें से कुछ प्रयास केवल जानवरों की छोटी संख्या को प्रभावित करते हैं । इसलिए हम सोच सकते हैं कि वे तुच्छ हैं और उन्हें ध्यान में नहीं रखा जाना चाहिए । लेकिन वे तुच्छ नहीं हैं, न केवल इसलिए कि वे स्पष्ट रूप से संबंधित पशुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, बल्कि इसलिए भी कि ये मामले जागरूकता फैलाने में मदद करते हैं कि हम प्रकृति में रहने वाले जानवरों की मदद कर सकते हैं बल्कि कर भी रहे हैं और साथ ही कुछ तरीके दिखा सकते हैं जिससे हम उनकी मदद कर सकते हैं । ऐसी संभावनाओं को समझने से अधिक संभावना है कि हम बड़ी संख्या में जानवरों के अधिक से अधिक विभिन्न संदर्भों में सहायता देना शुरू कर देंगे ।

निम्नलिखित कुछ तरीको से जंगली जानवरों की मदद की जा सकती है:

 

फंसे हुए जानवरों को बचाना

जानवरअक्सर जंगली में दुर्घटनाओं का शिकार होते हैं । उदाहरण के लिए, वे फंस जाते हैं और दर्दनाक, धीमी मौतों का सामना करते हैं । कई मामलों में, उन्हें बचाना अपेक्षाकृत आसान होता है ।

 

बीमार जानवरों को टीका लगाना और उपचार करना

बीमारियां और चोटें जंगल में रहने वाले अमानवीय जानवरों के लिए दुख का एक और कारण हैं । लेकिन, सौभाग्य से, यह उन क्षेत्रों में से एक है जिसमें हम वर्तमान में उनकी मदद करने के महत्वपूर्ण तरीकों के बारे में जानते हैं ।

 

आग और प्राकृतिक आपदाओं में जानवरों की मदद करना

प्राकृतिक आपदाओं और आग में कई जानवर मर जाते हैं । अक्सर उनमें से कई जानवरों को बचाना संभव होगा यदि मनुष्य चाहे । हाल ही में अब तक, अमानवीय जानवरों की प्राकृतिक आपदाओं से बचाव कि योजनाओं में अव्हेलना की गई है, लेकिन यह अब बदलने लगा है ।

 

जानवरों की बुनियादी जरूरते प्रदान करना

मौसम की स्थिति और भोजन और पानी की कमी, जंगल में जानवरों की मृत्यु के मुख्य कारण है । इसके अलावा, भोजन की कमी के दौरान जो जानवर भूखमरी से नहीं मरते हैं, वे कुपोषण और भूख से पीड़ित होते हैं , साथ ही प्यास से भी । हालांकि, उनके लिए आश्रय का निर्माण करना संभव है जो जीवन और मृत्यु के बीच अंतर कर सकते हैं और महत्वपूर्ण पीड़ा को रोक सकते हैं । कई बार भोजन और पानी जानवरों को उपलब्ध कराना संभव है, हालांकि बहुत सावधानीपूर्वक गणना की जरूरत है, वरना हम उनकी पीड़ा कम करने की बजाए बढ़ा सकते हैं ।

 

अनाथ जानवरों की देखभाल

जंगल में जानवर कभी-कभी एक या दोनों माता-पिता को खो देते हैं । ऐसी स्थिति में, यह अक्सर संभव नहीं होता है कि वह बच जाएगा । ज्यादातर मौत भूख के कारण हो जाती है, जब तक उसे बचाया नहीं जाएगा । यह एक महत्वपूर्ण समय है जब हम उनकी मदद कर सकते हैं ,उनके खोए हुए माता पिता की भूमिका निभाते हुए उनकी देखभाल कर के ।

 

जंगली जानवरों को कम नुकसान पहुंचते हुए , भविष्य के लिए काम करना

यदि हमारे पास अधिक ज्ञान और साधन होते तो उन्हें और भी अधिक सहायता देने के तरीके होंगे । ऐसा संभव होने के लिए , सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारा समाज जंगल में रहने वाले जानवरों की मदद करने की परवाह करें । यह संभव है कि यदि समाज जंगली जानवरों की मदद करने को कभी महत्वपूर्ण नहीं समझेंगे , तो जंगली जानवरों की जरूरतों को कभी संबोधित नहीं किया जाएगा । वकालत और अनुसंधान, समाज को इस दिशा में धक्का देने के लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है ।


अधिक जानकारी के लिये, आप इन भागों से सम्बंदित लेख भी पड़ सकते हैं ।

जंगली जानवरों के कष्टों का परिचय

एक आरंभिक पाट जो इस भाग के अंशो (मूल) को सारांशित करता है । आप यहाँ से शुरू कर सकते हैं , या केवल इसी को पड़े यदि आप केवल इसी पाट को पड़ने जा रहे है ।

जंगली जानवर की पीड़ा क्यों मायने रखती है ।

इस बात के कारण प्रस्तुत है कि क्यों जंगली जानवरों की इच्छाएं महत्त्व रखती है और क्यों जंगली जानवरों की पीड़ा महत्वपूर्ण हैं ।

जंगल में जानवरों की स्तिथि (दशा)

स्पष्ट है कि जंगल में जानवर वभिन्न संकटो का सामना करते है , प्रतिकुल मौसम के साथ , भोजन और पानी की कमी से भूक और प्यास, बीमारी, दुर्घटना के कारन घायल होना,द्वंद्व और मानशिक परेशानियाँ ।

वेलफेयर बयोलॉजी

वेलफेयर बायोलॉजी (कल्याणकारी जीवविज्ञान) के क्षत्र के द्वारा प्रस्तुत , प्राकृतिक विज्ञान में एक प्रस्ताषित अनुशासित अध्ययन का क्षेत्र यह की जानवरों की स्तिथी का अध्ययन उनकी भलाई के साथ करना । कल्याणकारी जीव विज्ञान जंगल में जानवरों की पीड़ा और उनकी मदद करने के उपायों का आकलन करेगा ।


Notes

1 यहाँ ऐसे भी लोग है जो इसके प्रति जागरूक है कि हम प्रकृति में जानवरों की मदद कर सकते है लेकिन हमें जो करना चाहिए उसे नकार देते है । जानवरों की मदद के विरुद्ध पक्ष और जंगल में पीड़ा के प्रति ख़ुशी (उत्सव ) के लिए देखे: Rolston III, H. (1992) “Ethical responsibilities toward wildlife”, Journal of the American Veterinary Medical Association, 200, pp. 615-622.